ST

ST
SAHARSA TIMES BREAKING

सहरसा टाईम्स : ♂ नालंदा- नालंदा विवि के नये भवन का शिलान्यास ।राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने किया शिलान्यास । ♂ बांका- विवाहिता ने फांसी लगाकर की खुदकुशी ।शव को पुलिस ने भेजा पोस्टमार्टम के लिए । फुलीडुमर के ढकवा गांव की घटना । ♂ भागलपुर- बाढ़ के पानी में डूबने से एक व्यक्ति की मौत ।सुल्तानगंज के तिलकपुर गांव में हुआ हादसा । ♂ पूर्णिया- घरेलू विवाद में पत्नी की गला रेतकर की हत्या ।पति ने जलालगढ़ थाने में किया सरेंडर । जलालगढ़ के एकंबा गांव में बीती रात की घटना । ♂ गया- म्यांमार के राष्ट्रपति अपनी पत्नी के साथ पहुंचे गया ।31 सदस्यीय शिष्टमंडल के साथ महाबोधि मंदिर समेत कई मंदिरों में करेंगे पूजा । ♂ कैमूर- बिजली करंट लगने से महिला की मौत ।उत्क्रमित म.वि. बहेरिया में रसोइया का काम करती थी मृतका ।चांद थानाबीक्षेत्र के बहेरिया का मामला । ♂ जहानाबाद- नदी में डूबी 4 छात्राएं ।2 छात्राओं की मौत,2 को ग्रामीण ने नदी से सुरक्षित निकाला । सकुराबाद के गोपाललपुर गांव में हुआ हादसा । ♂ पटना- केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का बयान--बिहार में बाढ़ राहत के इंतजाम सही नही ।'लालू प्रसाद ने राघोपुर की सुध नहीं ली' । ♂ लखीसराय- दो मोटरसाईकिल की भिड़ंत ।4 की हालत गंभीर सदर अस्पताल में भर्ती ।रामगढ़ थाना क्षेत्र के नदियामा गांव के समीप की घटना । ♂ पटना- केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का बयान 'केंद्र ने बाढ़ राहत के लिए बिहार को बड़ी मदद दी' '20 हजार टन अनाज देने का लिया फैसला' । ♂ सुपौल--गुस्साए उपभोक्ताओं ने किया NH 106 को जाम ।बिजली आपूर्ति की मांग को लेकर किया सड़क जाम । ♂ सारण-डीएम के हस्तक्षेप से पीडितों को मिला भोजन ।तपसी सिंह कॉलेज चिरांद में नहीं मिला था 2 दिनों से भोजन ।डीएम ने अफसरों को लगाई फटकार ।।

अगस्त 27, 2016

पत्रकारों को वाजिब हक़ दिलाने के लिए करेंगे जंग का आगाज


हमेशा पत्रकारों पर बरसने वाले लालू का नया पैंतरा


पत्रकारों को वाजिब हक़ दिलाने के लिए करेंगे जंग का आगाज 
लालू प्रसाद ने मीडियाकर्मियों के लिए नये वेतनबोर्ड का किया समर्थन किया
पटना से मुकेश कुमार सिंह की दो टूक---

अपने पुराने अंदाज से ईतर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने केन्द्रीय कर्मचारियों के लिए सातवें वेतन आयोग की तर्ज पर श्रमजीवी पत्रकारों एवं गैर पत्रकारों के लिए नये वेतनबोर्ड के गठन की मांग का आज समर्थन किया ।लालू प्रसाद ने आज यहां फेडरेशन अॉफ पीटीआई इम्प्लाइज यूनियंस की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए यह बात कही ।लालू की आज की शारीरिक भाषा बता रही थी की पत्रकारों की दुर्दशा का उन्हें मलाल है ।लालू ने कहा की ""पत्रकार तथा मीडिया संगठन के अन्य कर्मचारी देश के पढ़े लिखे नागरिक हैं तथा समाज की बेहतरी के लिए खबरें जुटाने और उन्हें प्रसारित करने में अपनी जान जोखिम में डालते हैं ।उनके वेतन में भी उसी तरह की अच्छी बढ़ोतरी होनी चाहिए,जैसी सरकारी कर्मचारियों के वेतन में सातवें वेतन आयोग से हुई है ।’’ लालू ने कहा की ""मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर नये वेतन बोर्ड के गठन की मांग करूंगा ताकि पत्रकार एवं मीडिया के अन्य कर्मियों को बढ़ती महंगाई के इस दौर में अपना घर ठीक से चलाने में मदद मिल सके ।""उन्होंने बेहद संजीदगी और बदले हुए अंदाज में कहा की वह इस मुद्दे पर पत्रकारों के साथ हैं तथा जरूरत पड़ने पर वह इसके लिए पत्रकारों के साथ सड़क पर उतरने को भी  तैयार हैं ।‘पत्रकारों एवं अन्य मीडिया कर्मियों का आह्वान करते हुए उन्होनें कहा की वेतन बोर्ड गठन के संघर्ष में जेल जाने को वे तैयार रहें ।मैं आपके साथ हूं और यदि जेल जाने की जरूरत पड़ी,तो,उसमें भी मैं पीछे नहीं रहूंगा ।इससे पहले फेडरेशन के महासचिव एम.एस. यादव ने कहा कि राजद प्रमुख लालू प्रसाद के पूर्ववर्ती संप्रग सरकार में रेलमंत्री रहने के दौरान पत्रकारों एवं गैर पत्रकारों के लिए उन्होनें वेतन बोर्ड गठित करवाने में काफी मदद की थी ।उन्होंने कहा कि इस बार भी उन्हें इस काम में पत्रकारों की महती मदद करनी चाहिए ।लालू ने एमएस यादव एवं श्रमिक संगठन के अन्य नेताओं से नये वेतनबोर्ड के गठन के लिए समुचित तैयारियां करने तथा आंदोलन के लिए कार्यक्रम बनाने को कहा है ।‘‘इस मुद्दे पर मैं आपके साथ हूं । आप अपने कार्यक्रम की तारीख के बारे में मुझे बस सूचित कर दीजिएगा ।’’ उन्होंने आरोप लगाया की भाजपा नीत केन्द्र सरकार केवल अखबार मालिकों की जरूरतों को पूरा कर रही है तथा पत्रकारों एवं अन्य मीडिया कर्मियों की ओर ध्यान नहीं दे रही है ।राजद सुप्रीमो ने आगे कहा, ‘‘हम मीडिया श्रमिक संगठनों की इस जरूरी मांग की,सरकार को अनदेखी नहीं करने देंगे तथा पत्रकारों एवं गैर पत्रकारों का वेतन एवं अन्य भत्ते बढाने के लिए सरकार का घेराव करेंगे ।’’ उल्लेखनीय है की फेडरेशन आफ पीटीआई इम्लाइज यूनियंस की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की यहां चल रही तीन दिवसीय बैठक में केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान एवं बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविन्द भी श्रमजीवी पत्रकारों एवं गैर पत्रकारों के लिए नये वेतनबोर्ड के गठन की मांग का समर्थन कर चुके हैं ।जाहिर तौर पर यह सुखद लक्षण प्रतीत हो रहे हैं लेकिन आगे सभी कुछ मनमाफिक होगा,इसपर फिलवक्त कुछ भी कयास लगाना जल्दबाजी होगी ।
राजद के मुखिया एक तरफ आज जहां पत्रकारों और मीडिया कर्मियों के सबसे बड़े शुभचिंतक और गार्जियन होने का प्रदर्शन कर रहे थे वहीं बीते कल एबीपी न्यूज़ संवाददाता पर लालू प्रसाद के लाडले और सूबे के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ना केवल बुरी तरह से भड़के थे बल्कि बदसलूकी भी की थी ।. मामला यूँ था की पटना के दीदारगंज थाना क्षेत्र के बाजार समिति में बाढ़ राहत शिविर का दौरा करने बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पहुंचे थे ।राहत शिविर का दौरा करने के बाद उन्होनें पत्रकारों से बातचीत की और उनके कुछ सवालों के जबाब भी दिए । इसी बीच ए बी पी न्यूज़ के पटना संवाददाता ने जब उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से बिहार के कितने जिलो में बाढ़ आई है, यह सवाल पूछा,तब लंदन से सैर कर लौटे बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव सवाल का जबाब देने के बजाए भड़क गए और उल्टे संवाददाता से ही सवाल--जबाब कर बदसुलूकी करने लगे । बिहार जब बाढ़ में डूब रहा था तब तेजस्वी लंदन  और स्विज़रलैंड से अपनी तस्वीरें अपलोड कर रहे थे ।आज पटना लौटे तब उन्हे बाढ़ पीड़ितों की याद आई और उलटे बिहार के कितने जिलो में बाढ़ आई है,के सवाल पर भड़क गए ।वैसे हमारी समझ से क्रिकेट के बाद सैर--सपाटे फिर राजनीति में आते ही रुतबेदार पद मिलना कोई हल्की बात नहीं है 
अपनी राजनीतिक जिंदगी में तेजस्वी शायद पहली बार बाढ़ पीड़ितों से मिल रहे थे ।उनकी तैयारी बिल्कुल सिफर थी ।ऐसे में पत्रकारों के तल्ख सवालों को झेलना आसान नहीं होता ।अभी तेजस्वी को बहुत कुछ सीखना है ।विरासत में मिली राजनीति के दम पर उप मुख्यमंत्री बन जाने के बाद उन्हें सभी के साथ शालीनता बनाये रखने का गुड़ सीखना चाहिए ।
हमारे इस आलेख का मकसद यह है की पिता पत्रकारों और मीडिया कर्मियों के हक़ और हकूक के लिए जेल तक जाने की बात कर रहे हैं,वहीं बेटा इन पत्रकार और मीडिया कर्मियों को दुलत्ती लगा रहे हैं ।पिता--पुत्र का यह खेल कुछ हजम नहीं हो रहा है भाई ।वैसे राजनीति में कुछ भी असम्भव नहीं है ।

कोसी के दो सगे भाईयों ने लहराया परचम ......

कोसी की मिट्टी में भी है दम........
रायफल शूटिंग में कोसी सहित सूबे का बढ़ाया मान .......

मुकेश कुमार सिंह की कलम से---- 
कहते है प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती है और यह अपना गहरा रंग दिखाकर रहती है । 

कोसी के दो लाल ने रायफल शूटिंग प्रतियोगिता में उत्तराखंड में धमाल मचाकर एक इतिहास रच डाला है । दोनों सहोदर भाइयों में सोलह साल के देवांश प्रिय और बारह साल के एकांश प्रिय को पन्द्रहवां उत्तराखंड स्टेट शूटिंग चैम्पियनशिप में क्रमशः गोल्ड और सिल्वर मैडल से नवाजा गया है । जीतने पर शुक्रवार को मुख्यमंत्री हरीश रावत और राज्यपाल कृष्णकांत ने सभी विजेताओं सहित दोनों भाईयों को सम्मानित किया ।
बताना बेहद लाजिमी है की बचपन की पढ़ाई सहरसा में करने के बाद दोनों भाइयों को 2013 में देहरादून के लूसेंट इंटर नेशनल स्कूल में दाखिला कराया गया ।
सरकारी सेवा से निवृत होने वाले लक्षमण सिंह के दोनों पोते को शूटिंग चैम्पियन बनने का जूनून बचपन से ही था । पत्रकार सह व्यवसायी बुद्धिनाथ सिंह और गृहिणी श्वेता सिंह के पुत्र 11वीं क्लास के देवांश और सातवीं क्लास के एकांश की सबसे बड़ी तमन्ना देश के लिए शूटिंग चैम्पियन में नाम रौशन करने का है ।
उत्तराखंड स्टेट रायफल एसोसिएशन द्वारा आयोजित चैम्पियनशिप प्रतियोगिता में दोनों भाइयों के कारनामे पर बजी तालियों की गड़गड़ाहट ने बिहार के पिछड़े जिले माने जाने वाले सहरसा का सम्मान भी उत्तराखंड में बढ़ाकर रख दिया है ।
कोच अमर सिंह भी दोनों बच्चों के प्रदर्शन से खुश हैं । उनका कहना है की देवांश और एकांश का शूटिंग के प्रति जुनून यह साबित करता है की भविष्य के ओलम्पिक चैम्पियन में रियो की तरह निराशा हाथ नहीं लगने वाली है ।भारत के ये दोनों लाल मैडल के लिए तरसते देश को जरूर गौरवान्वित करेंगे ।
जिस घर का सपूत ऐसा हो,वहाँ का आलम क्या होगा,आप सहज अंदाजा लगा सकते हैं । मासूम उँगलियों के जौहर से माँ ख़ुशी से कांपती हुयी मोहल्ले वासियों को ख़ुशी के लड्डू खिला रही थीं ।
पिता बुद्दिनाथ सिंह
सहरसा जिला मुख्यालय के कबीर चौक स्थित देवांश का घर अभी किसी ऐतिहासिक मंदिर की याद ताजा कर रहा है । 
पिता बुद्दिनाथ सिंह कहते हैं की वे जीवन में देश के लिए कुछ बड़ा करना चाहते थे लेकिन परिस्थिति और माली हालात ने उनके सपने को कतर डाला ।दोनों बेटों से उन्हें ढेरों आशाएं और उम्मीदें हैं ।उनके दोनों बेटे देश के बेटे साबित होंगे ।यह कहकर बुद्दिनाथ सिंह रो पड़े । कहते हैं पूत के पाँव पालने में ही दिख  जाते हैं ।निश्चित रूप से ये दोनों बच्चे आसमानी जौहर दिखाएँगे और इनके शौर्य का आगे जयकारा लगेगा ।

Saharsa Siblings excel in 15th Uttrakhand Shooting Championship...

Devansh Singh
Ekansh Singh
Saharsa Times Report:--- Two Saharsa boys Devansh Priya, 15, an his younger brother Ekansh Priya, 12, have done the state proud by winning Gold Medals at the 15th Uttrakhand State Shooting Championship, which concluded on August 26. 
In fact, Devansh, a Class XI student at Lucent International School, Dehradoon, won a Gold and three Silver Medals in 10 metre Deep Air Rifle event at the Championship. His younger brother Ekansh, a class VII student of the same school, won a Gold and a silver medal in 10 metre Deep Sight Air Rifle shooting event. Devansh received gold medal from Uttrakhand CM Harish Rawat while Ekansh received medal from Uttrakhand governor K K Pal.
Devansh and Ekansh are sons of a senior Saharsa Journalist Buddhinath Singh "Papan" and their Grandfather Laxman Prasad Singh is a Retired Head Clerk of Saharsa Collectorate. Both Devansh and Ekansh are being trained by Amar Singh in shooting at Dehradoon. Both of them were admitted to Lucent International School in 2013.
Devansh had also participated in rifle shooting championship in 2014 in New Delhi and won two gold medals. Their father Buddhinath and mother Shweta Singh are overjoyed by the success of their sons and have thanked their coach Amar Singh.

सामाजिक संवेदनाये हुई शून्य........

ओडिशा के कालाहांडी से मानवता को शर्मसार कर देने वाली खबर सुनकर हतप्रभ रह गया, जहां एक आदिवासी को अपनी बीवी की लाश कंधे पर रखकर 12 किलोमीटर इसलिए पैदल चलना पड़ा क्‍योंकि उसके पास गाड़ी करने को रुपए नहीं थे।
धिक्कार है इस सिस्टम पर जहां संवेदनाएं शून्य हो गयी है और मुनाफाखोर प्रवृति हावी। लिखते लिखते अपनी गजल की चंद पंक्तियाँ याद आ गयी अचानक-----
रो रही पूरी आबादी मुल्क के अपमान पर 
आप कहते हो मिंयाँ सब छोड़ दो भगवन पर.
बेचकर सरेआम अबला की यहाँ अस्मत प्रभु -
दे रहे हो मंच से भाषण दलित उत्थान पर.
साभार --- यह पोस्ट सोशल मीडिया व ब्लागिंग जगत के चर्चित शख़्सियत डॉ० रवीन्द्र प्रभात सर के टाइम लाईन से ली गई है....  
  


*ताजा बिहार*

पटना-गंगा नदी के जलस्तर में गिरावट जारी ।आज सुबह 7 बजे पटना के गांधीघाट पर 49.94 मीटर रिकॉर्ड हुआ जलस्तर ।
भोजपुर- 100 पेटी अंग्रेजी शराब बरामद ।कोइलवर थानाक्षेत्र के गीधा फैक्ट्री में कार्रवाई ।
गया- बिजली की किल्लत को लेकर सड़क जाम ।अतरी के डिहुरी गांव के पास लोगों ने किया जाम।
प.चंपारण- जेनरेटर के करंट लगने से युवक की मौत । नरकटियागंज पोखरा चौक के पास मंदिर परिसर में हुआ हादसा ।
कटिहार-तत्कालीन DM अश्वनी दत्तात्रेय की संपत्ति कुर्क करने का वारंट ।कटिहार सिविल कोर्ट ने जारी किया वारंट ।
आरा- खाद्य तेल से लदा ट्रक जब्त,3 गिरफ्तार ।शुक्रवार को सहार के गुजारपुर में लूटी गई थी ट्रक । भोजपुर पुलिस की DIU टीम की  कार्रवाई ।
रोहतास- बोलेरो की टक्कर से एक युवक की मौत,एक की हालत गंभीर ।बनारस रेफर ।बिक्रमगंज-दिनारा मुख्य पथ के नटवार पेट्रोल पंप के पास हुआ हादसा ।

स्कूली छात्र को अज्ञात वाहन ने रौंदा, दो की मौत

रोहतास (बिहार)---दो स्कूली छात्र को अज्ञात वाहन ने रौंदा। दोनों की घटनास्थल पर ही हुयी मौत । नशा थाना क्षेत्र के राईस मिल के पास की घटना ।
यह घटना सिर्फ रोहतास जिले से तालुकात नहीं रखती है. अपितु राज्य के विभिन्न हिस्सों से इस तरह की घटनाओं की खबरे आती रहती है.
सबसे बड़ा सवाल आज यह है कि इस तरह के घटनाओं का जिम्मेवार कौन है ? क्या बिहार सरकार का परिवन विभाग तेज रफ़्तार से व्यस्तम क्षेत्रों में चलने वाली गाड़ियों पर लगाम लगा नहीं सकती है या आयदीन इस तरह का रोड ACCIDENT होता रहेगा.
माफ़ करिएगा मैं इस घटना के सन्दर्भ में चर्चा नहीं कर रह हूँ. सहरसा में आप जरुर देखते होंगे की रोड पर छोटा छोटा बच्चा बाइक को कैसे ड्राईव करता है. रोड पर अपनी मौत को गले लगाने को तैयार ये नन्हा बच्चा से ज्यादा जिम्मेवार इनके माँ बाप है. इतना ही नहीं आजकल तो छोटी छोटी बच्ची स्कूटी से स्कूल जाने भी लगी है. जिसे माँ बाप अपनी शान समझते है.. अरे प्रशासन बाबु कभी इनको भी तो जाँच करिए की इनके पास लाईसेंस है क्या.. 


🌅 शुभ प्रभातम् 🌅 🌺 आज का पंचांग 🌺

🌅 शुभ प्रभातम् 🌅
🌺 आज का पंचांग 🌺
दिनांक-   27 अगस्त 2016
दिन - शनिवार
संवत्सर नाम - सौम्य
युगाब्दः- 5118
विक्रम संवत- 2073
शक संवत -1938
अयन - दक्षिणायन
गोल - उत्तर
 ऋतु - वर्षा
 मास - भाद्रपद
 पक्ष -  कृष्ण पक्ष
तिथि-  दशमी
 नक्षत्र - मृगशिरा
योग - वज्र
करण- वणिज
दिशा शूल-  पूर्व दिशा में
🌹🌻सांस्कृतिक कोश🌻🌹
   जब भगवान विष्णु श्रीकृष्ण के रुप में प्रकट हुए तब भगवती लक्ष्मी रुक्मिणी के रुप में प्रकट हुई ।
🌚  राहुकाल-  दिन के 09:30 से 11:00 बजे तक ।
     🌹🌺सुविचार 🌺🌹
             बिना सोचे- समझे तथा जल्दी बाजी में  किया गया कार्य प्रायः हानिकारक होता है ।

अगस्त 26, 2016

सार्थक कार्यों को दें तवज्जो, कसौटी पर कसे होने चाहिए कृत्य

बीणा सिंह का यह आलेख आधी आवादी सोशल ग्रुप से लिया गया है  ------ 

आज जीवन की आपाधापी में लोग अंधदौड़ लगा रहे हैं ।उनके जीवन का वास्तविक मकसद क्या है,यह कहीं गुम होता जा रहा है । नींद से जागने के बाद इंसान,इंसान की जगह मशीन बनकर हर काम करना चाहता है । धन अर्जन और भौतिकवादी सामग्रियों का संग्रहण बेहद जरुरी है लेकिन इस कार्यों को अमली जामा देने में इंसान का स्व मौजूद नहीं रहता है ।झूठ और फरेब के लिहाफ में इंसान घिसता हुआ जिंदगी की गाड़ी दौड़ाकर खुद को सफल इंसान समझ बैठता है । लेकिन इंसान वाकई भूल करता है । ऐसे कृत्य जिससे महज तथाकथित कुछ अपनों का भला हो रहा हो और कईयों का अहित,तो उसे कतई सही नहीं ठहराया जा सकता है ।

ऊहापोह में नैतिक मूल्यों का ह्रास हो चुका है ।परिवार के परिवेश और ज्ञान की पाठशाला में अब नैतिकता या फिर व्यवहारिकता का पाठ नहीं पढ़ाया जाता है ।पहले गुरुकुल हुआ करते थे जहां हर तरह की शिक्षा के साथ--साथ स्त्री--पुरुष को लेकर भी ज्ञान भरे जाते थे । कालखण्ड में युग बदला और नयी विचारधारा ने व्यापकता पायी ।आज के समय में रिश्ते की गर्माहट में एक तरफ जहां कमी आई है वहीं व्यवहार की मधुरता भी कम हुयी है । ध्यान,योग,चिंतन और मनन की परिपाटी अपने अवसान पर है ।

कुछ आध्यात्मिक गुरु पुरातन की विष्टताओं को स्थापित करने की भगीरथ कोशिश जरूर कर रहे हैं ।
इतिहास और अतीत को समेटकर,वर्तमान को जीना असल जीवन है ।ऐसे जीवन से दूसरे को चोट लगने की गुंजाईश ना के बराबर होती है । ज़रा सोचिये किसी भूखे को रोटी खिलाकर,किसी प्यासे को पानी पिलाकर,निःवस्त्र को वस्त्र पहनाकर,रोने वाले को हंसाकर,बेरंग के जीवन में रंग भरकर और निराश लोगों में जीवन भरकर अगर हम भी जियें तो अपना यह जीवन कितना सार्थक और मूल्यों से भरा होगा ।दूसरों में कमियां ढूंढने की जगह,आईये हम लोगों को खुश रखने की पहल करें ।

विधायक के भाई आये मदिरा के लपेटे में ......


तीन साथियों के साथ दबोचे गए ....
बीच बाजार ईज्जत हुयी नीलाम ...
दरभंगा से मुकेश कुमार सिंह की दो टूक--
कहते हैं नारी और मदिरा प्रेम वजनी से वजनी पुरुषों को कभी नंगा कर सकता है । दरभंगा में कुछ ऐसा ही वाकया हुआ ।
बीजेपी के विधायक संजय सरावगी के भाई शराब पीते अपने तीन साथियों के साथ गिरफ्तार कर लिए गए । दरभंगा के बीजेपी नगर विधायक संजय सरावगी के भाई अजय सरावगी व अन्य दो लोगों को उत्पाद अधीक्षक दीनबंधु ने शराब पीते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है । 
जानकारी के अनुसार बीती रात करीब नौ बजे दरभंगा नगर थाना क्षेत्र के हसनचौक के पास अजय सरावगी, पंकज कुमार तथा रितेश कुमार वेगन आर गाड़ी में AC ऑन कर अंदर बैठ कर शराब पी रहे थे ।जिसकी जानकारी उत्पाद निरीक्षक को लगी ।सूचना मिलते ही  उत्पाद निरीक्षक ने त्वरित कार्रवाई करते हुए सभी मदिरा प्रेमियों को जाम से जाम टकराते हुए ही दबोच लिया । गिरफ्तार विधायक के भाई अजय सरावगी के दो अन्य साथियों में एक दरभंगा समाहरणालय के विकास शाखा के क्लर्क पंकज कुमार तथा रितेश कुमार एलआईसी एजेंट बताये जा रहे हैं ।
चूँकि मामला एक राजनीतिक हस्ती के भाई से जुड़ा हुआ है तो सियासी गलियारे में इसकी धमक सुनाई देगी ही ।जब सत्तासीनों के घोर विरोधी दल बीजेपी विधायक के भाई से जुड़ा मामला हो,तो,बात यूँ ही बड़ी हो जाती है ।
इस मामले में लालू प्रसाद बेहद तल्ख लहजे में बड़ी कार्रवाई का प्रलाप कर रहे हैं । जिस तरह से बिहार में पूर्ण शराबबंदी के बाद नाना प्रकार की घटनाएं घट रही हैं, उससे लगता है की यह शराबबंदी बड़ी चुनौती की जगह बड़ी मुसीबत बनती जा रही है ।

शराब पीते पकड़े गए भाजपा विधायक के भाई, और दो अन्य को मिली जमानत

रसूख के सामने कानून हुआ उदार पहले शराब पीने की पुष्टि फिर बात गुटखा खाने की हुयी...
बिहार में कुछ भी हो सकता है साहेब....
दरभंगा से मुकेश कुमार सिंह की खड़ी--खड़ी----दरभंगा के नगर विधायक संजय सरावगी के छोटे भाई अजय सरावगी को उत्पाद अधीक्षक ने उनके दो अन्य साथियों के साथ एसी कार में बैठकर शराब पीते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया था ।कयास यह लगाया जा रहा था की अब उनपर कार्रवाई की जाएगी ।
सूबे में शराबबंदी कानून के उल्लंघन के आरोप में गुरुवार की देर रात पकड़े गए दरभंगा के नगर विधायक संजय सरावगी के छोटे भाई अजय सरावगी और दो अन्य को शुक्रवार को दरभंगा सीजेएम कोर्ट ने जमानत दे दी ।बताया गया है कि कोर्ट में इनकी ओर से दावा किया गया कि इन लोगों ने शराब नहीं पी बल्कि गुटखा खाया था ।जमानत इसी आधार पर दी गई है ।
पहले शराब पीने को लेकर गिरफ्तारी फिर गुटखा खाने के जौहर भरी दलील पर रिहाई,यह मामला पुरे इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है ।गौरतलब है की है कि उत्पाद विभाग की टीम ने गुरुवार की देर रात इन तीनों को एसी कार से पकड़ा था।,तब कहा गया था कि विभाग की जांच में इन लोगों के शराब पीने की पुष्टि भी हुई थी ।विभाग का दावा था कि गुरुवार की रात करीब नौ बजे नगर थाने के हसन चौक के पास से अजय सरावगी सहित तीन लोगों को एसी कार में शराब पीते गिरफ्तार किया गया था ।तलाशी के दौरान कार से शराब की बोतलें और ग्लास भी बरामद किए गए थे ।
उत्पाद अधीक्षक दीनबंधु ने बताया कि उत्पाद विभाग की टीम ने शराब पी रहे तीनों लोगों की ब्रेथ एनालाइजर लगाकर जांच भी की थी ।उत्पाद अधीक्षक ने ब्रेथ एनालाइजर से हुई जांच में तीनों के नशे में होने की पुष्टि भी की थी ।
गिरफ्तार अन्य लोगों में समाहरणालय की विकास शाखा में सहायक के पद पर कार्यरत पंकज कुमार और एलआइसी एजेंट रीतेश कुमार गुप्ता भी शामिल हैं ।इन तीनों को दस-दस हजार के मुचलके पर जमानत पर छोड़े जाने की सूचना है ।
इस संबंध में पूछे जाने पर विधायक संजय सरावगी ने कोई भी प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया ।
बिहार में कोई भी जादू सम्भव है । विधायक के भाई या कोई रसूखदार शराब पीते पकडे गए तो पहली जांच में शराब निकल सकती है लेकिन आखिरी जांच में गुटखा या फिर किसी लजीज खाने की खुशबू निकलेगी ।बिहार में चमत्कार का खेल जारी है साहेब ।बेदाग़ निकल गए विधायक जी के भाई अपने दो अन्य दोस्तों के साथ ।वाह री दुनिया !वाह रे कानून !

आखिर नारियों का वाजिब सम्मान किसी भी क्षेत्र में क्यों नहीं ?

पुरुषों की नजर और सोच अक्सर नारी को करती हैं घायल......
नारी भी कम गुनहगार नहीं ........
जीवन उसूलों से भरा हो,तो मर्द रहेंगे दायरे में.......

पूजा परासर का यह आलेख आधी आवादी सोशल ग्रुप से लिया गया  है  ---
सृष्टिकाल से नारी सम्मानित और पूज्या कम और भोग्या ज्यादा रहीं हैं । रामायण में सीता का हरण(अपहरण), बाली का अपने छोटे भाई सुग्रीव् की पत्नी से प्रेम....महाभारतकाल में द्रोपदी की कथा, इसके अलावे शिव और कृष्ण लीला, नारी को एक वस्तु स्थापित करती रही है ।हम पुरातन बातों को घसीटने की मंसा नहीं रखते हैं ।
हमारा विषय है आधुनिक काल में नारियों की वाजिब दशा । कुछ दशक पहले तक बलात्कार जैसी घटना पर आवाज ना के बराबर उठती थी लेकिन अब तो अखबार और टीवी चैनल ऐसी घटनाओं से भरे पड़े हैं ।
खासकर कम उम्र की लडकियां, जो वयस्क हो रही हैं, वे अपने परिधानों का सटीक चयन नहीं कर पा रही हैं ।घर का परिवेश उन्हें मर्यादा का पाठ कतई नहीं पढ़ाता है । यह कहना की बेटा और बेटी में कोई फर्क नहीं है, यह पल्ला झाड़ गुनाह है। दोनों में बेहद असमानताएं हैं। हाँ ! आप उनकी शिक्षा और आजादी को समान समझिये ।दोनों को जीवन जीने का समान अधिकार है ।अपने बेहतर तरीकों से वह दोनों समाज में एक नया इतिहास बना सकते हैं ।
लेकिन खासकर लडकियां या वयस्क नारी उत्तेजक परिधान पहनकर स्कूल जाती हैं। खासकर सार्वजनिक मेले और मंदिर में भी सज--संवरकर जाती हैं । इसे क्या समझें ? आप पुरुषों को घूरने और छींटाकशी का खुद अवसर दे रही हैं। स्वच्छंदता और आजादी एक सीमा तक ही सही है । 
मुझे याद है की वंदना प्रेयसि जो एक आईएएस अधिकारी हैं,अपने एक आलेख में लिखा था की ऊँची जगह पर पहुचनें के बाद भी निम्न स्तर के पुरुष उनके अंग--प्रतिअंग को निहारने और घूरने से बाज नहीं आते थे । उनके आलेख में एक दर्द छुपा था ।हमने यह समझा की हमें अपनी सभ्यता और संस्कृति की शिक्षा अब के परिवेश में नहीं दी जा रही है। यह उसी का नतीजा है । स्कूल और कॉलेज का ड्रेस कोड अति आवश्यक है और श्रृंगार खुद को कितना भा रहा है इसका आकलन बेहद जरुरी है । नारी अगर पुरुषों को मौक़ा ना दे तो पुरुष उनकी तरफ एक कदम भी नहीं बढ़ा सकते हैं ।।शालीन परिधान और शालीन मेकअप आपके वजूद में चार चाँद तो लगाते ही है,साथ ही आपकी सुरक्षा के वे मजबूत हथियार भी साबित होते हैं ।हमारी समझ से पढ़ाई के साथ--साथ जीवन में कुछ बड़ा करने की सोच जब हृदय में जगह बना ले,तो,बहुत सारी चीजें यूँ ही पीछे छूटने लगती हैं । 
हम नारी हैं, हमें नारी के हर आचरण पर समय--समय पर गहन बहस और विमर्श करते रहना चाहिए । जिस देश में नारी की पूजा होती हो । वहाँ नारी को सदैव जागृत होकर अपने आचरण का अनवरत मूल्यांकन करते रहना चाहिए ।

शिवपुरी में जन्माष्टमी मेला में उमड़ी श्रद्धालुओ की भीड़

कृष्ण लला के दर्शन को आतुर हैं लोग
ग्रामीण इलाके से लोगों की उमड़ी भीड़ 
radhe-krishna-temple-shivpuri-saharsasaharsa-shivpuri-mela
सहरसा टाईम्स की रिपोर्ट----
यूँ तो पुरे शहर में श्री कृष्ण जन्माष्टी धूमधाम से मनायी जा रही है और मंदिरों के आसपास विशेष साफ-सफाई की व्यवस्था की गयी है जिससे दूर दराज एवं आस-पास के  श्रद्धालुओं को कठनाइयां ना हो ।इसके अलावा परिसर में पीने योग साफ पानी की भी व्यवस्था किया गया है ।भक्तों की भीड़ को देखते हुए विशेष इंतजाम किए गए हैं ।हर साल की तरह इस बार भी श्री कृष्ण पूजा समिति द्वारा ,शिवपुरी सहरसा में जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर दो दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन  किया गया है ।समिति के अध्यक्ष चंद्रहाश यादव एवं मेला प्रभारी पंकज क्रांति ने बताया कि आसपास ग्रामीण क्षेत्र को लेकर मेला में काफी भीड़ होती है ,जिसको नियंत्रित करने के लिए प्रसासनिक तौर पर सुरक्षा व्यवस्था भी की गयी है ।                     

 संरक्षक- अशोक यादव,अध्यक्ष चंद्रहाश यादव,सचिव-डिम्पल यादव,कोषाध्यक्ष-मुकेश यादव,के साथ साथ कौशल यादव,उमेश भगत,पिंटू परासर,संजय सिंह,नंदू यादव,ओमप्रकाश भगत,शशि, मनोज,रितेश ,आलोक, विकास भारती एवं अन्य स्थानीय युवा सम्राट क्लब के सभी युवा पुरे जोर-शोर से आयोजन समिति को सहयोग कर रहे हैं ।मेले की भव्यता और छंटा तो देखते ही बनती है ।हर तरह कृष्ण लला और राधे--राधे के जयकारे लग रहे हैं ।

BIG BREAKING

BIG BREAKING

सुपौल(बिहार)---
टीवीएस शो रुम में लाखों की चोरी ।ग्रिल तोड़ कर दिया गया घटना को अंजाम ।5 लाख से अधिक कैश चोरी का मामला ।पीड़ित द्वारा पुलिस को दी गई जानकारी ।त्रिवेणीगंज थाना के मुख्य बाजार की घटना ।लैपटॉप व शो रुम के लॉकर में रखे 5.34 लाख कैश की हुयी चोरी ।घटना की जांच में जुटी पुलिस ।गुरुवार को बैंक बंद रहने के कारण नहीं जमा हो सकी थी रकम ।