ST

ST

सितंबर 22, 2016

उरी में आतंकी हमले का दर्द

शहीदों ने सीने पे खायी है गोली,देश के लिए । 
हर माँ ने बेटा खोया है, देश के लिए । 
हर एक आँसू का हिसाब हम गिन--गिन कर लगे । 
चाहे हमें भी कफन नसीब हो,देश लिए । 
------------------***-----------------------
शहीदों की शहादत पर रो पड़ा है,पूरा देश । 
सूना कर गया है,वो पूरा देश । 
गली--गली या शहर--शहर मातम में खो गया है,पूरा देश । 
हमलोगों को छोड़ कर क्यों चले गये,जहाँ रो पड़ा है,पूरा देश । 
------------------***-----------------------
हमें रक्षा देने वाला मौत को गले लगा गया । 
हमारी परवाह करने वाला खुद शहीद हो गया । 
वक़्त आ गया है,दुश्मनों से लोहा लेना का । 
कई अपने शहीदों का दर्जा लेकर धरती में शमा गया । 
------------------***---------------------- 
मो० अजहर उद्दीन
माँ से बेटा.....
पत्नी से पति.....
बहन से भाई.....
बेटी से बाप.....
और ना जाने कितने रिश्ते असमय जमींदोज हो गये,देश की सुरक्षा के लिए हमारे वीर जवानों की कुर्बानी हमलोगों के जेहन में ताउम्र जज्ब रहेगी ।एक बार फिर नम आँखों से तमाम शहीदों को शत--शत नमन ।जय हिन्द... जय भारत... 
  

"तन्हाई में संग जी लेता हूँ बाते कर लेता हूँ""

गजल और गीतों के साथ जेल में बंद पूर्व सांसद आनंद मोहन की जिंदगी की एक नयी उड़ान...
वाकई कथाकार भी और गीतकार भी हैं मोहन....
एक शिल्पी को छल,प्रपंच,बेशर्मी और खुदगर्जी से जेल में रखने की हुयी थी साजिश....
मुकेश कुमार सिंह की दो टूक---एक जमाने में देश भर में अपनी रॉबिन हुड छवि से एक दमदार पहचान बनाने वाले और राजनीति में कभी घुटने ना टेकने वाले महारथीपूर्व सांसद आनंद मोहन आज तत्कालीन गोपलागंज डीएम जी कृष्णैया हत्या मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं ।वर्षों से जेल में बन्द आनंद मोहन का ताजा शौक भर इसे ना कहें बल्कि सलाखों के पीछे उनकी साहित्यिक ज्ञान--विधा कुलाचें भर रही हैं ।जेल भीतर उन्हाइनें कई कवताएं लिखी हैजिन्हें देश स्तर पर व्यापक सम्मान मिला है।कैद में आजाद कलम एवं स्वाधीन अभिव्यक्ति शीर्षक से दो काव्य संग्रह इनके प्रकाशित भी हो चुके है ।आनंद मोहन को भीतर की खोह से इस बात का एहसास हो गया है कि कलम हमेशा बंदूक से ज्‍यादा ताकतवर होती है । गोपालगंज के तत्कालीन जिलाधिकारी जी. कृष्णैया की हत्या के लिए लोगों को भड़काने और बढ़ावा देने के आरोप में पटना हाइकोर्ट ने बिहार के इस पूर्व सांसद को उम्रकैद की सजा सुनाई थी और सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले को बरकरार रखा था ।पूर्व सांसद आनंद मोहन फिलवक्त सहरसा मंडल कारा में बंद है ।
12 गीतों और गजल संग्रह का ओडियो सेट जल्द ही आएगा बाजारों में

राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित कैद में आज़ाद कलम आयर स्वाधीन अभिव्यक्ति के चुनिंदा 12 गीतों और गजलों का ओडियो (गीत) सेट आगामी 19 जनवरी 2017 को वीर सिरोमणि महाराणा प्रताप की जयंती के अवसर पर पटना के मिरर हाई स्कूल में आहूत न्याय मार्च में रिलीज किया जायेगा ।12 गीतों और गजलों में से एक ""तन्हाई में संग जी लेता हूँ बाते कर लेता हूँ""……….को अपनी सुरीली आवाज दी है भागलपुर के उभरते हुए युवा गजल गायक सैयद तासीर हुसैन ने ।यहाँ बताना बेहद लाजमी है की अन्य गजलों में विभिन्य गायकों ने भी अपनी आवाज दी है ।
पुस्तक विमोचन सहित ओडियो रिलीज में जुटेंगे देश-प्रदेश के दिग्गज 
जनवरी में आयोजित न्याय मार्च में पूर्व सांसद आनंद मोहन के करीब 1 लाख समर्थक उनकी सम्मानजनक रिहाई की मांग के साथ देश सहित प्रदेश के कोने--कोनेसे पटना में जुटेंगे ।ठीक उसी दिन पूर्व सांसद आनंद मोहन की दो पुस्तक गुमनाम नहीं मरूँगा (काव्य संग्रह)और काल कोठरी से का भी विमोचन किया जायेगा ।इस अवसर पर देश-प्रदेश के चर्चित जानेमाने कवि,साहित्यकार,शायर,गजल कार,राजनेता सहित बुद्धिजीवी और अन्य लोग भी जुटेंगे और उनके द्वारा ओडियो सेट एवं पुस्तकों का विमोचन किया जायेगा ।
शूरवीर पूर्व सांसद आनंद मोहन जो छल--प्रपंच और दोगलागिरी की वजह से सजायाफ्ता मुजरिम बनकर आज सहरसा जेल में बंद हैं,वे एक अच्छे कवि, गीतकार,शायर और साहित्यकार भी है ।दुनिया ने जीसस को नहीं बख्सा,महावीर को पत्थर मारे,गांधी गोली के शिकार हुए,कार्ल मार्क्स ने पूरी जिंदगी सलाखों के पीछे गुजार दी ।सुकरात ने जहर पीया ।तो व्यवस्था की मार आनंद मोहन जी को भी सौगात में मिल रही है ।आनंद मोहन जी की एक ताजा गजल है,जिसे एकबार अवश्य सुने ।रूह काँप और थर्रा उठेंगी ।

इस वर्ष सहरसा से थरबीटीया के बीच मेगा ब्लॉक....


सहरसा टाईम्स की रिपोर्ट ----- सहरसा स्टेशन का गुरूवार को समस्तीपुर मंडल के डी आर एम सुधांशू शर्मा ने निरक्षण किया। इस दौरे में दर्जनों बेटिकट यात्रियो से जुर्माना वसूला गया। डी.आर.एम ने कहा इस साल सहरसा थरबीटीया के बीच मेगा ब्लॉक लेकर सहरसा स्टेशन पर बड़ी रेल लाइन की प्लेटफ़ॉर्म बनाई जाएगी। इससे ट्रेन समय से आएगी जाएगी और ट्रेन विस्तार का रास्ता साफ होगा.

सितंबर 20, 2016

"काम शेर करता है और अंजाम बुजदिल सोचता है" -- आनन्द मोहन --

आनन्द मोहन जी के टाईम लाइन से ली गई पोस्ट ---
उड़ी में 'आर्मी बेस कैम्प' पर हमले ने बरबस देश के तीन ------
प्रख्यात महाकवियों की चुनिंदा पंक्तियाँ याद दिला दी । राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त जी ने 'पुष्प की अभिलाषा' का मार्मिक चित्रण कुछ इस तरह किया है -
मुझे तोड़ लेना बनमाली
उस पथ पर देना तुम फेंक,
मातृभूमि पर शीश चढ़ाने
जिस पथ जाए वीर अनेक ।
गुप्त जी की उक्त पंक्तियाँ उड़ी के शहीदों के नाम ... आज के हालात पर हमारे दूसरे राष्ट्रकवि रामधारी सिंह 'दिनकर' जी का 'कुरुक्षेत्र' के प्रथम सर्ग में अत्यंत ही सटीक और सजीव व्यंग है -
वह कौन रोता है वहाँ- इतिहास के अध्याय पर,
जिसमें लिखा है, नौजवानों के लहू का मोल है
प्रत्यय किसी बूढ़े, कुटिल नीतिज्ञ के व्याहार का;
जिसका हृदय उतना मलिन जितना कि शीर्ष वलक्ष है;
जो आप तो लड़ता नहीं, कटवा किशोरों को मगर,
आश्वस्त होकर सोचता, शोणित बहा, लेकिन, गयी बच लाज सारे देश की ?
पर यहाँ तो शोणित बहने के बाद भी हमीं लाज में डूबे जा रहे हैं ।
कायरतापूर्ण हमला, हाई लेवल मीटिंग, कठोर कारवाई, बख्से नहीं जाएंगे, उसी की भाषा में जवाब देंगे, एक के बदले दस सिर काटेंगे, छठी का दूध याद दिला देंगे । सुनते-सुनते कान पक गए ...
बन्द करो अनर्गल प्रलाप-विधवा विलाप । उसके हाथ लम्बे हैं, तो क्या तुम्हारे लूले ? उसके पास आई.एस.आई. है, तो तुम्हारे पास भी 'राव' । उसके लिए कश्मीर है, तो तुम्हारे लिए भी बलूचिस्तान । वह परमाणु पावर है, तो तुम भी अणुशक्ति ।
बातवीरों ! बहाना छोड़ो, कुछ सोचो ... कुछ करो । म्यांमार में घुस कर मारो और यहाँ छुपकर बैठो,ऐसा तो नहीं चलेगा।कदुआ पर सितुआ चोख ... ?
कहते हैं, जब व्यक्ति पहला धोखा खाता है तो गलती खाने वाले की नहीं, देने वाले की होती है । हमने तुम पर विश्वास किया और तुमने मुझे धोखा दिया । जब व्यक्ति दूसरा धोखा खाता है, तो गलती देने वाले की नहीं खाने वाले की होती है, आखिर धोखा खाकर भी विश्वास क्यों किया ? लेकिन जब आदमी धोखा पर धोखा खाए, फिर भी न सुधरे, न संभले, तो उसे परले दर्जे का मुर्ख और लतखोर कहते हैं ।
अब हम स्वंय तय करें कि हम किस श्रेणी में आते हैं । 
जनकवि गोपाल सिंह 'नेपाली' की इन पंक्तियों से इस आलेख का उपसंहार -
वो राही दिल्ली जाना तो
कहना अपनी सरकार से
चरखा चलता है हाथों से
शासन चलता तलवार से ...

और अंत में आज की स्थितियों पर कुछ कहती, कुछ बोलती मेरी व्यंग्यात्मक कविता "बाँध" ।

बात खरी-खोटी और साफ ... गुस्ताखी माफ़ ...
खेल हो या जंग, पहला उसूल है -
जो आक्रमक होता है- वह जीतता है,
जो रक्षात्मक होता है- वह पिटता है ।
-आनन्द मोहन-

वक्त अभी राजनीति का नहीं.. NSUI सहरसा....

सहरसा टाईम्स की रिपोर्ट ----- उड़ी में रविवार को सैन्य ब्रिगेड पर आतंकी हमले में हुए शहीद जवानों को पुरे देश में श्रधांजलि दिया जा रहा है. इस आतंकी घटना से भारत का पूरा आवाम पाकिस्तान से बदला लेने को उतारू है.
गौरतलब है की सहरसा में इस आतंकी हमला का विरोध पुरजोर हो रहा है. सहरसा UNSI ने पाकिस्तान का झंडा जला कर इसका विरोध प्रकट किया है. NSUI के जिला अध्यक्ष सुदीप कुमार सुमन ने कहा कि पाकिस्तान द्वारा लगातार किये जा रहे भारतीय सेना पर हमला बर्दाश्त योग्य नहीं है. भारत के प्रधानमंत्री को अब आगे बढ़ना चाहिए. देश की जनता साथ है. 
साथ ही कहा कि  एक वर्ष के अन्दर पठानकोट और उड़ी की घटना में न सिर्फ हमारे सैनिक शहीद हुए बल्कि नापाक आतंकियों ने भारतीय परुषार्थ और अस्मिता को ललकारा है जिसे बर्दाश्त करना कायरता से कम नहीं और शहीदोँ का अपमान होगा. सबसे बड़ी बात उन्होंने ये कहा की अभी राजनीति करने का समय नहीं है बल्कि सभी को एक जुट होकर पाकिस्तान को सबक सिखाने का है और NSUI इसके लिए आपके साथ है. इस मौके पर NSUI के खगेश कुमार, राहुल राम, सूरज कुमार, विराम कश्यप, मो० युसूफ, विकाश पिंटू, शिवम सिंह,दिलखुश, नंदन, हरिप्रकाश, विभूति सहित अन्य छात्र मौजूद थे. 


*बिहार की ख़बरें*


★ मधुबनी – बस हादसे को लेकर ग्रामीण उग्र ।उग्र ग्रामीणों ने प्रशासन को फिर खदेड़ा ।मौके पर 10 थानों के 100 से अधिक जवान मौजूद ।
★ बगहा- 110 बोतल शराब के साथ कारोबारी गिरफ्तार ।सीमावर्ती यूपी के पडरौना से ला रहा था ।शराब बथुआरिया थाना पुलिस ने किया गिरफ्तार ।
★ मधुबनी–विजय बस तालाब में गिरी ।लगभग 70 यात्री बस में थें सवार ।दोपहर 12:30 बजे ही तालाब में डुबी है बस ।हादसे में सभी यात्रियों के मौत की आशंका ।
★ मधुबनी – रेस्क्यू करने गयी पुलिस बल पर पथराव ।पुलिस के देरी से पहुंचने से नाराज हैं ग्रामीण ।
♀ नवादा-रजौली के कवईया टाड़ पंचायत में छापेमारी अवैध रुप से चल रहे शारदा माइंस के ठिकानों पर छापेमारी ।9 डेटोनेटर,46 जिलेटिन बरामद ।
♀ बांका- संदिग्ध स्थिति में एक महादलित की मौत ।परिजनों ने शराब पीने से मौत की जताई आशंका । अमरपुर के कोलबुजुर्ग पंचायत के मुसहरी टोला की घटना ।
♀ दरभंगा- ट्रक से कुचलकर छात्र की मौत ।सदर थाना के दिल्ली मोड़ के पास हादसा ।
♀ पटना- महिला ने की खुदकुशी की कोशिश ।घरेलू विवाद में खुद को लगाई आग ।गंभीर हालत में पीएमसीएच रेफर ।खुसरुपुर के चकहुसैन गांव की घटना ।
♀ मुजफ्परपुर- नहर में डूबकर युवक की मौत ।नहाने के दौरान डूबी युवक ।शव बरामद ।बरूराज के मुरारपुर गांव में हादसा ।
♀ समस्तीपुर- ठनका गिरने से एक महिला की मौत ।दूसरी महिला गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती ।सिंघिया के जहांगीरपुर गांव में हादसा ।
♀ मुजफ्फरपुर-साहेबगंज बाजार के सेन्ट्रल बैंक में हंगामा ।काम नहीं होने से नाराज खाताधारियों ने किया हंगामा ।नेट का मॉडम 10 दिनों से है जला हुआ

पाकिस्तान झूठा देश और फरेबी है


कहते हैं मुसलमानों का ईमान अल्लाह के बराबर होता है
हो सकता है मुट्ठी भर ऐसे मुसलमान हो जो पाक हों
पाकिस्तान के साथ--साथ भारत को आंतरिक युद्ध भी लड़ना होगा
हिन्दुस्तानियों जागो, अब हम अपने सैनिकों को मरने नहीं देंगे
यह देश शूरवीरों और वीरांगनाओं का है............. 
मुकेश कुमार सिंह की दो टूक-----अब सूझ--बुझ,रणनीति,या फिर देरी दिलेरी नहीं,कायरता होगी ।पाकिस्तान एक जालिम देश है ।आप आंकड़े उठाकर देख लें इस देश ने डॉक्टर,इंजीनियर और बड़े ऑफिसर की तुलना में ज्यादे आतंकी बनाये हैं ।हद यह है की ऊँचे दर्जे की कुर्सी पाने वालों को वहाँ के हुक्मरान और सेना ने मिलकर बाद में आतंकी  भी बनाया है ।विश्व में जितने भी आतंकी संगठन बने है,उसका सूत्रधार पाकिस्तान रहा है ।महात्मा गांधी की नादानी और पंडित नेहरू की बुजदिली के जिक्र भर से अब काम नहीं चलने वाला है ।हिन्दुस्तान में कश्मीर घाटी को आतंकियों ने अपना मजबूत ठिकाना बना लिया है ।सेना वहाँ ज्यादा कार्रवाई करेगी तो आम--अवाम के भी मारे जाने का खतरा है ।घाटी में ठीक से पुलिसिंग नहीं हो पा रही है ।एक बड़ी बात यह है की सेना और पुलिस से  आतंकियों के सूचना तंत्र ज्यादा मजबूत हैं । जम्मू,कश्मीर और श्रीनगर इलाके में आतंकी लगातार बड़े हमले कर रहे हैं और हम अपने जवानों और अफसरों की लाशों को गिनभर रहे हैं और मातमी धुन के साथ उन्हें सेल्यूट कर रहे हैं ।
यह कहीं से भी जायज नहीं है ।कश्मीर के उरी में जो घटना घटी,उसके बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने अपनी रूस की यात्रा रद्द कर दी ।रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और गृह मंत्री राजनाथ सिंह दोनों उरी गए ।लेकिन इससे क्या होगा ।टेबुल पर बैठकर जायकेदार शरबत और बिरयानी का अब वक्त नहीं रहा ।अब बारूद का धुंआ दिखना चाहिए ।हमें पता है की पाकिस्तान से युद्ध का आगाज होते ही गृह युद्ध की भी स्थिति बन सकती है ।लेकिन इस मुल्क के ज्यादातर मुसलमान देशभक्त हैं और वे ऐसे नापाक मंसूबों वालों को खुद खुनी सबक देंगे ।जाहिर तौर पर हम घाटी में कमजोर है वर्ना अस्त्र-शस्त्र और एक से एक मिसाइल में हम पाकिस्तान से आगे हैं ।अमेरिका ने हमें पाकिस्तान स्थित उसके एयर बेस के उपयोग करने की ईजाजत हमें दे दी है ।जिस तरह लादेन का शिकार किया गया था उसी तरह पाकिस्तान घुसकर हाफिज सईद और उसके जैसे कुछ खुनी आतंकियों का सफाया करना बेहद जरुरी है ।
हम जानते हैं की हमें पाकिस्तानी सेनाओं के साथ--साथ पाकिस्तानी आतंकी और भारत में आ बैठे आतंकियों से भी युद्ध करने हैं ।ऐसे में साधू--संतों से राय लेने की जगह रक्षा सलाहकार,विशेषज्ञ और पूर्व के बड़े सैन्य अधिकारियों से त्वरित वार्ता करके युद्ध का शंखनाद करना होगा ।देश माँगता है कुर्बानियां ।खद्दरधारियों अब तो देश हित की सोचो ।विभिन्य स्टेट में बैठे राजनीतिक सूरमाओं अपने चोंचले चलाना बंद करो ।कुछ जोकर किस्म के नेताओं ने आज इस देश को इस मुकाम पर पहुंचा दिया है ।
विश्व के किसी भी देश में अगर मुसलमान भाई ज्यादे सुरक्षित और खुशहाल हैं तो वे हिन्दुस्तान में है ।मुस्लिम भाईयों जागो ।चलों कंधा से कंधा मिलाकर ।लड़ाई बड़ी है ।विश्व को बताना है की भारत का सच्चा मुसलमान हिन्दुस्तानभक्त है ।चलो भाईयों चलो,पाकिस्तान का नामोनिशान मिटाना है ।
आखिर पाकिस्तान से अगर युद्ध की नौबत आई,तो,देश के प्रधानमन्त्री और रक्षा मंत्री सहित सेनाध्यक्ष से आग्रह है की ""मैं एक अदना सा पत्रकार हूँ""मुझे सेना का नेतृत्व करने का मौक़ा मिले ।क्षत्रिय होने का शौर्य और अंगार बरसाकर ज़िंदा लौटूंगा पाकिस्तान से ।अगर शहीद हुआ,तो बस इतनी कृपा करेंगे की मेरे परिजनों को किसी भी तरह के मुआवजे की गाली की जगह एक सम्मान पत्र दे देंगे ।

*अपनी बात*

अपनी बात---थोड़ी भावनाओं की तासीर,थोड़ी दिल की रजामंदी और थोड़ी जिस्मानी धधक वाली मुहब्बत कई शाख पर बैठती है ।लेकिन रूहानी मुहब्बत ना केवल एक जगह काबिज और कायम रहती है बल्कि ताउम्र उसी इक शख्सियत के संग कुलाचें भरती है ।