Search

कुख्यात सुपारी किलर नवीन यादव की ईलाज के दौरान हुई मौत

इनकाउंटर से बचे नवीन की पुलिसिया पिटाई से हुयी मौत
ईलाज के दौरान पीएमसीएच में हुयी मौत
सोनवर्षा राज के एक मकई खेत से हुयी थी उसकी गिरफ्तारी
सवेरा होने की वजह से इनकाउंटर में असफल पुलिस ने बेरहमी से की थी उसकी पिटाई LG कंपनी में कार्यरत इंजीनियर अमित कुमार अमित रंजन हत्याकांड,राइस मिल के मालिक से पचास लाख की रंगदारी मांगने,सिर्रही गांव में आगजनी और गोलीबारी सहित कई संगीन मामलों में था नवीन आरोपी
अमित कुमार अमर की रिपोर्ट—-     

सहरसा जिले के सोनवर्षा राज थाने में LG कंपनी का इंजिनियर  कुमार अमित रंजन की हत्या,सहित दर्जनों लूट,रंगदारी,आगजनी सहित गोलीबारी का नामजद  कुख्यात अपराधी नवीन यादव जो सोनवर्षा थाना क्षेत्र के सिर्रही गाँव के रहने था की मौत मंगलवार की सुबह पी एम सी एच में हो गई !मालूम हो की सोनवरसा पुलिस ने 22 अप्रैल को काफी मसक्कत के बाद शाहपुर नवटोलिया गांव के पूर्वी वहियार के एक मकई के खेत से उसे गिरफ्तार किया गया था । गिरफ्तार अपराधी के पास से एक देशी कट्टा व तीन जिंदा कारतूस भी बरामद किया गया था ! यह भी बताते चलें की बीते 16  अप्रैल की रात को सोनवरसा बैजनाथपुर मुख्य मार्ग पर शाहपुर नवटोलिया शिव मंदिर के समीप सोहा गांव निवासी इंजीनियर कुमार अमित रंजन की हत्या गोली मारकर कर दी गयी थी ।साथ ही उसने 14 अप्रैल की शाम को रास्ता विवाद को लेकर सिरॅही गांव मे गोलीबारी व आगजनी की घटना को अंजाम दिया था ।ततपश्चात सौरबजार थाना क्षेत्र के अरॅहा गांव स्थित जनता राईस मिल के मालिक से पचास लाख की रंगदारी मांगी थी  ! यही नहीं,इसके अलावे भी इसने कई संगीन अपराध को अंजाम दिया था। सहरसा,सोनवर्षा राज थाना सहित सौरबजार थाना पुलिस बीते एक सप्ताह से इस आरोपी की तलाश में थी ।पुलिस अधीक्षक अश्विनी कुमार केे नेतृत्व में 22 अप्रैल को सोनवर्षा राज,बसनही थाना व काशनगर ओपी पुलिस सहित जिले के विभिन्न थाना पुलिस के द्वाराे घंटो मशक्कत के बाद अपराधी को मकई की खेत में घेराबंदी करके गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस उसका इनकाउंटर करना चाहती थी लेकिन सुबह हो जाने और लोगों की भीड़ जमा हो जाने की वजह से पुलिस उसका इनकाउंटर  पायी। गिरफ्तारिन के बाद पुलिस ने उसकी पिटाई बर्बर तरीके से की। उसकी इतनी बेरहमी से पिटाई की गयी थी की उसे सदर अस्पताल के चिकित्स्कों ने तुरंत पीएमसीएच रेफर कर दिया गया। गिरफ्तार नवीन को जेल भेजने की जगह इलाज के लिए पीएमसीएच भेजा गया लेकिन इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। मौत की खबर परिवार वाले को मिलते ही घर मातमी सन्नाटा छा गया है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवा कर शव को घरवाले को सौंप दिया है।
गौरतलब है है की इससे पूर्व पुलिस ने अपराध सरगना अमित झा को गोलियों से छलनी कर दिया था जिसकी मौत भी इलाज के दौरान ही हुयी थी। दोनों अपराधियों के मरने के तरीके अलग हैं लेकिन दोनों का शिकार पुलिस ने बड़ी खूबी से किया है। दोनों घटना को हम पुलिसिया इनकाउंटर ही मानते हैं। 

Written by 

Related posts