Search

सुपौल के बाद सहरसा में सेफ्टी टैंक बना मौत का टैंक

*सहरसा के सोनबरसा राज में घटी दिल दहलाने वाली घटना*
*चार मजदूर का दर्दनाक मौत,एक की हालत नाजुक, लोगो ने किया सड़क जाम*
संकेत सिंह की रिपोर्ट —- बीते 27 मई को सुपौल के त्रिवेणीगंज इलाके में सेफ्टी टैंक साफ करने के दौरान जहरीले गैस की चपेट में आकर चार मजदूरों  की मौत हुई थी । ठीक उसी तरह की दर्दनाक और रूह को थर्राने वाली घटना की पुनरावृत्ति आज सहरसा में हुई । सहरसा जिले के सोनबरसा राज थाना के हटिया रोड में एक सेफ्टी टैंक खोलने के दौरान पांच मजदूर जहरीले गैस की चपेट में आ गए । देखते ही देखते सभी अंदर में छटपटाने लगे। आसपास के लोगों ने सभी को बड़ी मुश्किल से बाहर निकाला लेकिन इस हादसे में चार मजदूर मौत मौके पर ही हो गयी जबकि एक की हालात बेहद नाजुक बनी हुई है।
मिली जानकारी के मुताबिक बेबा नजराना प्रवीण के नवनिर्मित शोचालय के टैंक का सेटरिंग खोलने के दौरान ये हादसा हुआ जिसमें मनोज विश्वास,रुपेश विश्वास, सुजीत कुमार और मुकेश कुमार की मौत मौका ए वारदात पर ही हो गयी ।एक मजदूर सुशील कुमार की स्थिति बेहद नाजुक है जिसे सदर अस्पताल में ईलाज के लिए भर्ती कराया गया है ।घटना से आक्रोशित स्थानीय लोगों ने सड़क जाम कर जमकर बबाल काटा ।
हालांकि घटना के तुरन्त बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और पुलिस अधिकारी दल-बल के साथ स्थल पर पहुँचकर अपनी तरफ से बचाव कार्य में जुट गए और उन्होंने अपनी तरफ से किसी तरह की कोई कोताही नहीं बरती । पुलिस अधिकारियों ने भारी मशक्कत के बाद लोगों को शांत करने में कामयाबी पायी और यातायात को बहाल करवाया । इस तरह से टैंक साफ करने के दौरान कुछ ही दिन के अंतर में आठ लोगों की हुई मौत से लोग सकते और दहशत में हैं । अब टैंक सफाई के दौरान बेहद सतर्कता की जरूरत है । साथ ही टैंक सफाई के दौरान स्वास्थ्य विशेषज्ञ की भी जरूरत है कि वे जहरीली गैस के काट का कोई उपाय ढूंढ सकें ।जाहिर तौर पर यह बेहद गम्भीर मामला है और सरकार को टैंक सफाई को लेकर कोई कड़ा निर्देश जारी करना चाहिए ।
सहरसा से संकेत सिंह की रिपोर्ट

Written by 

Related posts