Search

राष्ट्रपति से सम्मानित शिक्षिका का हुआ सम्मान

 सहरसा टाईम्स के लिए संकेत सिंह की रिपोर्ट : सुपौल जिले के सरायगढ भपटियाही प्रखंड के सरायगढ़ गांव की रहने वाली शिक्षिका बबीता कुमारी जो अपनी विशिष्ट कार्य क्षमता की बदौलत राष्ट्रपति अवार्ड से सम्मानित है उन्हें पटना के विद्यापति भवन में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत कल 1 दिसंबर शनिवार को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय,स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय,कला एवं संस्कृति मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि के द्वारा सम्मिलित रूप से ट्रॉफी एवं शॉल देकर सम्मानित किया गया ।
इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने संबोधित करते हुए कहा कि बेटियां किसी भी क्षेत्र में बेटों से पीछे नहीं हैं ।बस उन्हें बचाने और पढ़ाने की जरूरत है ।इसी क्रम में उन्होंने कहा कि कोसी के सुदूर इलाके सरायगढ़ की बेटी बबीता ने सामाजिक एवं पारिवारिक दायित्वों का निर्वहन करते हुए सामाजिक सरोकार से जुड़े हुए कार्य में जो अपना योगदान दिया है,जिसके लिए वह बिहार सरकार से लेकर भारत के 100 कामयाब महिलाओं में भी चयनित होकर पूरे देश का नाम रौशन किया ।बबीता बेटियों के लिए एक प्रेरणास्रोत हैं ।मुझे बबीता जैसी बेटी पर गर्व है ।स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने अपने संबोधन में कहा कि तमाम चुनौतियों और विषम परिस्थितियों में जिनके घर में माता-पिता बेटियों को आगे बढ़ने में सहयोग किए हैं वह तमाम बेटियां आज चहुंदिश परचम लहरा रही हैं जिसका जीता- जागता उदाहरण सुपौल जिले की बेटी बबीता है ।आज सम्मानित होने वाले तमाम बेटियों पर मुझे गर्व है और में बधाई देता हूँ कि  वह और आगे बढ़ें और अपने परिवार व समाज का नाम रौशन करें ।
कला संस्कृति मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि ने कहा कि बेटियां कला का क्षेत्र हो,खेल का क्षेत्र हो या शिक्षा का क्षेत्र हो,सभी क्षेत्र में उन्हें उचित माहौल दिया जाए तो वह बेटों को पीछे छोड़ देती हैं । इसीलिए बेटी अभिशाप नहीं वरदान है ।आज विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य कर देश का नाम रौशन करने वाली बेटियों का सम्मान समारोह में कुल 16 बेटियों को मैं बधाई देता हूं कि वह ऐसे ही अपने कार्य को निरंतर जारी रखें और समाज व देश का नाम रौशन करें ।गौरतलब है कि बबीता शिक्षक धर्म को निभाते हुए सामाजिक सरोकार से जुड़े कार्य “बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ”, “कन्या भ्रूण हत्या रोकथाम”, “स्वच्छ भारत अभियान”,”बाल विवाह दहेज प्रथा”,”महिला साक्षरता वृक्षारोपण”,”नशा मुक्ति अभियान” आदि जैसी सामाजिक कुरीतियों को मिटाने के लिए विगत 10 वर्षों से समाज के गरीब दलित शोषित वर्गों के बीच जन जागरूकता करती आ रही हैं ।
इस मौके पर उपस्थित बेटी बचाओ,बेटी पढाओ के राष्ट्रीय संयोजक राजेंद्र फड़के,प्रदेश संयोजक रीता शर्मा,प्रदेश महामंत्री प्रमोद चंद्रवंशी,डॉ संजीव चौरसिया,नीतिन नवीन आदि मौजूद थे ।वाकई बबिता ने कोसी जैसे पिछड़े इलाके की पहचान राष्ट्रीय स्तर पर कराया है ।वह कोसी की कोहिनूर है ।

Written by 

Related posts