Search

शहीद आशीष जैसे जांबाज बहादुर की शहादत नितीश कुमार की विफलता को दर्शाती है- जीशु सिंह

सहरसा टाइम्स की रिपोर्ट —शहीद आशीष कुमार सिंह के पैत्रिक गावं सरोजा में अधिकारी, नातों से लेकर सामाजसेविओं का ताँता लगा हुआ है. दुःख के समय में परिवार को हिम्मत बढ़ाने के लिए क्षेत्र के चर्चित और वर्तमान राजनीति में दम रखने वाला रासलोसपा नेता सह मुखिया शिवेन्द्र कुमार जिशु ने शहीद पुलिस सब-इंस्पेक्टर के परिजनों से मुलाकात किया. उन्होंने शहीद की तस्‍वीर पर माल्‍यर्पण कर उन्‍हें श्रद्धासुमन अर्पित कर उनके आत्मा की शांति के लिए  ईश्‍वर से प्रार्थना की.
उन्होंने ने कहा की आशीष एक जाबांज बहादुर पुलिस अधिकारी थे। आज पुलिस प्रशासन में उनके जैसे अफसरों की सख्‍त जरूरत है। वे अपनी जिम्‍मेदारियों को बखूबी निभाते थे, चाहे वो प्रशासनिक जिम्‍मेवारी हो या पारिवारिक। शहीद आशीष के घर एक बेटा और एक बिटिया है, जिनके सर से अब पिता का साया उठ गया है। इसलिए हम सरकार से मांग करते हैं कि उनके बच्‍चों की बेहतर परवरिश और उनके परिवार को इस दुखद घड़ी में आर्थिक मदद दिया जाय।
साथ ही उन्होंने कहा की जब दिल्‍ली में एक सिपाही के शहीद होने पर 2 करोड़ दिया जाता है, तो बिहार में क्‍यों नहीं? नितीश जी आशीष जैसे जांबाज बहादुर की शहादत आपकी विफलता का दर्शाती है । क्‍योंकि अगर आपने उन्‍हें सुविधा दी होती, तो आज आशीष अपराधियों को पकड़ने में कामयाब रहते। मगर आपने तो बिहार को अपराधियों के हवाले ही छोड़ दिया है। इसलिए कम से कम अतंरात्‍मा जगाकर ही आशीष के परिजनों को नौकरी और आर्थिक मदद कर दीजिए।

Written by 

Related posts