Search

दिनदहाड़े ताबड़तोड़ गोलीबारी से दहलता सहरसा

सहरसा टाइम्स की रिपोर्ट  —– बिहार में सरकार के सुशासन के तमाम दावों की हवा निकल रही है। सूबे के सभी जिलों में अपराधियों की बल्ले-बल्ले है। सूबे के सहरसा जिले की बात करें, तो यहाँ अपराधियों की समानांतर सरकार चल रही है। इस जिले में सबसे सस्ती चीज इंसानी जान है। सहरसा में अपराधी पूरी तरह से बेलगाम और बेखौफ हैं।... Read More

भाषायी समरसता की भूमि रही है मिथिला…..मंजर सुलेमान

विरासत बचाने की होगी हर संभव कोशिश…प्रो. सिंह    सहरसा टाईम्स  — मिथिला भाषाई और सांस्कृतिक समरसता की भूमि रही है उर्दू और मैथिली दोनों भाषाओं को समृद्ध किया है मैथिली में जहाँ उर्दू के बहुतायत मे शब्द घुलमिल गए है वही उर्दू में भी मैथिली के करीब पाँच सौ से अधिक स्वीकार कर लिए गए है। अन्य समुदायों की... Read More