Search

सहरसा के दो सपूत असामायिक मौत के गाल में…

सहरसा टाईम्स की रिपोर्ट —- सहरसा में असामायिक मौत का सिलसिला बदस्तूर जारी है. कोसी की धरती से बहुत कम समय में ही जीवन की इहलीला समाप्त हो रही है. इस क्षेत्र में असाध्य रोगों का तीव्र गति से फैलाव हो रहा है. जिसकी रोकथाम शून्य है. बहुत दुःखद घटना है पंचगछिया के पटोरी गावं के एक अच्छे शिक्षक बबलू जी जो कि अपने स्वभाव से आम लोगो मे अपना खाश पहचान बनाये हुए थे की तीन दिन पूर्व सुबह के समय अचानक उनकी तबियत खराब हुई। जिसे उपचार के लिय सहरसा लाया गया. सहरसा में जाँचोपरांत ब्रेन हेमरेज निकला. स्थिति नाजुक देखर दरभंगा पारस रेफर कर दिया गया जहाँ इलाज के दौरान कल 4 बजे आखरी सांस ली. इस तरह से उन्होंने ने भी बहुत ही कम समय में दुनियां को अलविदा कह दिया.

Late Bablu Singh

दूसरी दुखद घटना बीते मंगलवार को सहरसा सिमरी बख्तियारपुर सडक मार्ग के चकला समीप बाइक सवार युवक सनातन गुप्ता की बाइक सामने से आ रही टमटम से टकरा गई. जिसमे सनातन गंभीर रूप से घायल हो गया. टक्कर इतनी भयंकर थी की जख्मी के पेट का अंदरूनी हिस्सा बाहर आ गया था. स्थानीय लोगों और बख्तियारपुर पुलिस की मदद से सिमरी बख्तियारपुर के सरकारी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया. परन्तु प्राथमिक उपचार के बाद सहरसा रेफर कर दिया गया.

Late Sanatan Gupta

सहरसा में निजी नर्सिंग होम में इलाज हो रहा था लेकिन यहाँ से भी रेफर पटना कर दिया गया. पटना के निजी नर्सिंग होम में इलाज चल रहा है था. सनातन के चाहने वालो ने बेहतर इलाज के लिए आर्थिक रूप से मदद भी कर रहे थे लेकिन आज की सुबह सनातन ने आखरी सांस ली और इस दुनिया को अलविदा कर दिया.

 

Written by 

Related posts