Search

शहीद के पत्नी की चीत्कार सुन रो पड़ीं वैशाली की जिला अधिकारी

वैशाली से अमित कुमार अमर की रिपोर्ट

13 महीने पहले हुई थी शादी, शहीद के पत्नी की चीत्कार सुन रो पड़ीं वैशाली की जिला अधिकारी

वैशाली जिले के अंतर्गत जंदाहा प्रखंड के लोमा गांव में उस वक्त मातमी सन्नाटा छा गया जब उन्हें पता चला कि उनके ही गांव का युवक छतीसगढ़ के सुगमा में नक्सलियों के कायरता पूर्ण हमले में शहीद हो गया । शाहिद अभय कुमार का पार्थिव शरीर आज अहले सुबह तिरंगे में लिपटा जब उनके पैतृक गांव लोमा पहुंचा तो गांव में कोहराम मच गया । यहां बताना लाजमी है कि मात्र तेरह महीने पहले ही  अभय की शादी तान्या न कि लड़की के साथ बड़े ही धूम धाम के साथ हुई थी । आज अभय का पार्थिव शरीर तिरंगे में लिपटा देख तान्या बार-बार बेहोश हुए जा रही थी ।


शहीद के घर पर वैशाली की  जिला अधिकारी रचना पाटिल, जिला पुलिस कप्तान राकेश कुमार सहित कई पुलिस प्रशासन के अधिकारी सुबह से ही पहुंच गए थे। डीएम-एसपी ने परिजनों से मिलकर उन्हें सांत्वना दी। डीएम रचना पाटिल शहीद की पत्नी से भी मिली। शहीद अभय के अंतिम दर्शन के लिए हजारों की भीड़ उमड़ पड़ी थी।
घाट पर डीएम-एसपी सहित प्रशासनिक और राजनेताओं ने शहीद अभय के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र चढ़ा कर अपना श्रद्धासुमन अर्पित किया। वहीं, सेना के जवानों ने मातमी धुन बजाया और गोलियों से शहीद को सलामी दी। अभय के छोटे भाई मुरलीधर ने उन्हें मुखाग्नि दी। इस मौके पर अभय के चचेरे भाई और सीआरपीएफ में तैनात अजय कुमार ने कहा कि मेरा भाई बहादुर था। कभी पीछे नहीं हटा। हम चाहते हैं कि नक्सलियों का खात्मा हो।


वहीं, भाजपा के पूर्व विधायक अच्युतानंद सिंह ने बिहार के शहीद जवानों को सीएम या किसी भी मंत्री द्वारा पटना एयरपोर्ट पर श्रद्धांजलि अर्पित नहीं किये जाने को लेकर बिहार सरकार और नीतीश कुमार की संवेदनशीलता पर भी  सवाल उठाया।

Written by 

Related posts